ATM क्या है? और ATM का full form क्या होता है ?

ATM kya hai   

नमस्कार दोस्तों आज के पोस्ट में ATM क्या है (What is ATM in Hindi), ATM कैसे काम करता है और साथ में ये भी जानेंगे कि ATM से पैसे कैसे निकाले. आज ज्यादातर लोग ATM के बारे में जानते है और नहीं जानते तो कोई बात नहीं हम आपको आसान भाषा में बताएँगे कि ATM क्या है हिंदी में (What is ATM in Hindi) और  ATM ka full form क्या है?

जब एटीएम नहीं था तो बैंक में पैसे निकालने के लिए लम्बी लम्बी लाइन लगा करती थी लेकिन अब ऐसा नहीं है. अब आपको हर छोटे बड़े शहर में एटीएम दिख जायेंगे. ATM कंप्यूटरीकृत मशीन होता है जिसमे एक विशेष प्रकार का कार्ड डालने पर पैसे निकाले जाते है इस परिभाषा को मैंने नीचे और सरल तरीके से बताया है. इस पोस्ट के अंतिम में आपको एक FAQ section मिलेगा जिसमे आपको कुछ ऐसे प्रश्न मिलेंगे जो हमें ATM के बारे में कंफ्यूज करते है. 

RBI के अनुसार अगस्त 2020 तक India में कुल 209110 ATMs( On-site + Off-site ATMs ) है जिसमे सबसे ज्यादा एटीएम SBI के है

ATM क्या है- What is ATM in Hindi?

ATM एक तरह का इलेक्ट्रॉनिक बैंकिंग मशीन है जो कि बिना किसी बैंक कर्मचारी के ग्राहक को उनके डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड के द्वारा कैश निकालने की सुविधा के साथ अन्य सर्विस भी देता है ये पूरी तरह से automatic (स्वचालित) होता है डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड एक आयताकार प्लास्टिक कार्ड होता है जिसमे एक चिप लगी होती है. इसी चिप में ग्राहक की बेसिक जानकारी होती है.

ATM का full form

ATM का full form है -Automated Teller Machine ( स्वचालित गणक मशीन)

एटीएम कब आया – एटीएम का इतिहास 

ATM क्या है? और ATM का full form क्या होता है? ये जानने के बाद अब इसके इतिहास के बारे में जानते है. वर्ष 1960 में ब्रिटिश आविष्कारक John Shepherd Barron (जॉन शेफर्ड बैरन) ने ATM का अविष्कार किया था इसीलिये जॉन शेफर्ड बैरन को एटीएम का जनक कहा जाता है. John Shepherd-Barron को इसका विचार एक चॉकलेट वेंडिंग मशीन को देखकर आया था और उन्होंने खुद से पूछा था कि क्या इस तरह की मशीन से कैश नहीं निकाला जा सकता है? सबसे पहला एटीएम 27 जून 1967 को लन्दन में Barclays (बर्कले) बैंक ने लगाया था उस समय ATM card नहीं थे तो Banks पैसे निकालने के लिए पेपर वाउचर देते थे जिस पर यूनिक कोड लिखा होता था.

भारत में एटीएम का इतिहास 

भारत में वर्ष 1987 से 1993 के बीच का समय एटीएम का शुरूआती दौर था इस समय एटीएम से केवल पैसा निकलता था और जमा होता था और वर्ष 1995 से 1999 के बीच mini statement और बैलेंस चेक करने की सुविधा दी जाने लगी इसके बाद धीरे धीरे एटीएम मशीन में money transfer, मोबाइल रिचार्ज, बिल पेमेंट, touchscreen menu आदि जोड़े गए पहला ATM वर्ष 1987 में मुंबई में HSBC (हांगकांग एंड शंघाई बैंकिंग कारपोरेशन) द्वारा स्थापित किया गया था.

Types Of ATM

  • On-site ATM –ऐसे ATM जो बैंक परिसर के अन्दर होते है वो इस प्रकार के एटीएम होते है.
  • Off-site ATM-इसमे वो ATMs आते है जो बैंक परिसर के बाहर ऑपरेट होते है.
  • Worksite ATM –इस प्रकार के ATMs किसी कंपनी परिसर में होते है और साधारणतया उस कंपनी के कर्मचारी इसका प्रयोग करते है.
  • Cash Dispenser – इस प्रकार के ATMs केवल cash निकालना, बैलेंस चेक करना और mini statement ही देता है.
  • Mobile ATM – इस प्रकार के एटीएम गाँव और शहरो में मांग के हिसाब से कुछ क्षेत्रो में घूमते है COVID 19 के कारण इस तरह कि संख्या मे बढ़ोत्तरी हुई है.
  • Pink label ATM – इस प्रकार के एटीएम women के लिए होते है.
  • White Label ATM -इस प्रकार के एटीएम Non-Banking financial company लगाती है जबकि कैश बैंक जमा कराती है जैसे TATA का Indicash ATM इस प्रकार के एटीएम बैंक का लोगो नहीं दिखा सकते है. 
  • Green Label ATM -इस प्रकार के एटीएम कृषि से सम्बंधित transaction के लिए होते है.
  • Orange Label ATM -इस प्रकार के एटीएम share market transactions के लिए होते है. 
  • Brown label ATM – इसमे cash और network connectivityबैंक देती है जबकि हार्डवेयर, lease agreement कोई थर्ड पार्टी देती है। ये एटीएम बैंक का लोगो दिखाते है.

ATM के parts

एटीएम के parts के बारे में आपको ज्यादा जानने की जरुरत नहीं है फिर भी इनके बारे में नीचे एक बेसिक आईडिया दे दिया है.  

  • Mainboard- यह एटीएम के मुख्य भाग जैसे CPU, memory और अन्य भागो को एक साथ कनेक्ट करती है. 
  • Card Reader- यह आप के एटीएम कार्ड में लगे चिप या मैग्नेटिक स्ट्रिप को पढ़कर आपका account इनफार्मेशन निकालती है  ज्यादातर ATMs में लगे card reader, EMV standard को सपोर्ट करती है EMV मतलब Europay, Mastercard और  Visa ये तीनो कंपनिया ही EMV standard  तय करती है. 
  • Display- ये LCD screen होता है जहा पर हमें सारे instruction दिखाई देते है ज्यादातर एटीएम में अब touchscreen प्रयोग होने लगा है.
  • Keypad- एटीएम में इनपुट जैसे pin और amount डालने के लिए इसका प्रयोग होता है. 
  • Cassette (कसेट)- इसी में सारा cash रखा होता है. 
  • Cash Dispenser- यही आपके जरुरत के हिसाब से cash को tray में डालता है. 
  • Printer – ये transaction की receipt देने के लिए. 
  • I/O Board- ये सर्किट बोर्ड प्रोसेसर और इन्टरनेट के बीच संचार को कण्ट्रोल करता है. 
  • Modem (मॉडेम)- ये processor को इन्टरनेट से कनेक्ट करता है. 

ATM कैसे काम करता है 

अब आप ये समझ गए है ATM क्या है.अब हमें यह जानना है ये कैसे समझता है कि हमें कितना पैसा चाहिए या फिर हम उससे कैश देने के लिए कह रहे है. ये सारी प्रक्रिया तब शुरू होती है जब हम ATM card मशीन में डालते है Mainboard आपसे PIN डालने के लिए कहता है. PIN मिलते ही Mainboard, I/O बोर्ड और मॉडेम के जरिये PIN और एक यूनिक EMV transaction कोड प्रोसेसर को भेजता है.

प्रोसेसर इस जानकारी को आपके डेबिट कार्ड से जुडी ATM network पर ले जाता है यह network इस जानकारी को आपके बैंक को भेजता है और बैंक यह तय करता है कि transaction वैध है या नहीं. अगर बैंक को सही लगता है तो बैंक ATM को अप्रूवल मेसेज भेजता है. ये प्रक्रिया हर बार होगी जितनी बार आप ATM मशीन में नया इनपुट या request डालेंगे (इनपुट मतलब पैसे निकालना, बैलेंस चेक करना आदि) और जब ये प्रक्रिया पूरी हो जाती है तब mainboard कैश निकालने की प्रक्रिया शुरू करता है और dispenser, Cassette से नोट एक एक करके निकालना शुरू करता है.

अपने आस पास ATM कैसे खोजे

ये तरीका तब आपके बहुत काम आएगा जब आप किसी अनजान शहर में होंगे अपने स्मार्टफोन में गूगल मैप ओपन करिए और टाइप करिए – “ATM near me या ATM” इसके बाद आपके फोन में सारी लिस्ट दूरी के हिसाब से दिख जाएगी.

ATM से पैसे कैसे निकाले 

ATM से पैसे निकालने के लिए आपको सबसे पहले अपने पिता जी या फिर जो भी आपके परिवार में एटीएम का प्रयोग करना जनता हो, उससे पूछे वो आपको ज्यादा अच्छे से समझा देगा (PIN नंबर नहीं बताना है) अगर आपके पास ये विकल्प नहीं तब आप नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करे

  • आपके पास जिस भी बैंक का एटीएम कार्ड है उस बैंक के एटीएम में जाये या फिर दुसरे बैंक के भी एटीएम जा सकते है
  • आपको एटीएम मशीन में एक green slot दिखेगा अब एटीएम कार्ड इस slot में डाले.
  • अब एटीएम के स्क्रीन पर भाषा चुनने का विकल्प आएगा  आप हिंदी या English में से कोई भी चुन सकते है.
  • ये बहुत जरुरी step है इसमे आपको PIN टाइप करना है (ये pin आपको बैंक एटीएम कार्ड के साथ देती है या फिर आपको बैंक द्वारा बताये गए तरीके से generate करना होगा) अगर आपने 3 बार से अधिक गलत पिन डाला तो आपका एटीएम कार्ड blocked हो जायेगा.
  • अब आपको type of account सेलेक्ट करना है इसमे आपके सामने current account (चालू खाता) और saving account (बचत खाता) दिखेगा दोनों में से कोई एक चुने.
  • अब transaction चुनिए इसमे आपके सामने होगा – cash withdrawal, transfer, Balance enquiry आदि। अगर आपको पैसा निकालना है तो cash withdrawal चुनिए.
  • अपनी जरुरत के हिसाब से राशि (amount) भरिये किसी भी एटीएम से एक दिन में पैसे निकालने की सीमा (limit) होती है और ये भी याद रखिये कि आपकी भरी हुई राशि आपके बैलेंस से ज्यादा न हो.
  • इस लास्ट step में आपकी राशि निकल आएगी. पैसा निकालने के बाद आप receipt ले लीजिये. अब आप फिर से कोई transaction करना चाहते है तो आपसे पूछा जायेगा another transaction के लिए। अगर नहीं करना चाहते तो X या cancel button  दबा दे और एटीएम कार्ड लेना न भूले.

ATM  के फायदे 

  • एटीएम आपको बहुत आसानी से मिल जायेंगे और कस्टमर किसी भी बैंक के एटीएम ज सकता है पैसा निकलने के लिए.
  • आप किसी भी बैंक में अकाउंट खुलवा कर आसानी से एटीएम कार्ड पा सकते है.
  • इससे आप मिनटों में पैसा निकल सकते है, बैलेंस चेक कर सकते है और mini statement भी निकल सकते है.
  • कुछ ATMs cash deposit की सुविधा देते है.
  • आप यहा पर आसानी से fund transfer के साथ bill payments भी कर सकते है.
  • ये वर्ष में 365 दिन खुले रहते है.
  • आप यहा पर अपने एटीएम कार्ड का PIN आसानी से बदल सकते है.

ATM के बारे में कुछ रोचक तथ्य

  • भारत में पहला ATM वर्ष 1987 में मुंबई में HSBC (Hongkong and Shanghai Banking
    Corporation) द्वारा स्थापित किया गया था.
  • संसार का पहला ATM 27 जून, 1967 को लन्दन में Barclays Bank द्वारा स्थापित किया गया था.
  • साउथ अमेरिकी देश ब्राज़ील में Biometric ATM प्रयोग होते है इस तरह के ATM में user को पैसे निकालने से पहले अपने fingers स्कैन करवाना पड़ता है.
  • संसार का पहला गोल्ड डिस्पेंसर एटीएम, संयुक्त अरब अमीरात (UAE) की राजधानी अबूधाबी में लगाया गया था.
  • एटीएम के 4 अंको के पीछे एक रोचक कहानी है – John Shepherd-Barron ने जब एटीएम बनाया था. तब 6 अंको का pin सेट करना चाहते थे लेकिन उनकी पत्नी ने कहा वो केवल 4 अंको को याद रख सकती है लेकिन सुरक्षा कारणों से स्विट्ज़रलैंड और कुछ अन्य देशो के बैंक 6 अंको का पिन देते है.
  • भारत का पहला तैरता हुआ एटीएम केरला में स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया द्वारा वर्ष 2004 में लगाया गया था.
  • संसार का सबसे अकेला एटीएम आपको अंटार्टिका में मिलेगा.
  • Australiaऔर Canada में एटीएम को automatic banking machines या money machines कहते है जबकि UK और New Zealand में कैश मशीन कहते है.

ATM लेन देन को सुरक्षित कैसे रखे 

  • ATM में transaction हमेशा अकेले करे.
  • कार्ड होल्डर अपना एटीएम किसी को भी न दे.
  • PIN नंबर कभी भी एटीएम कार्ड पर न लिखे.
  • अपना एटीएम कार्ड कभी भी एटीएम में ना छोड़े.
  • अपना मोबाइल नंबर अपने बैंक account से लिंक कर ले.

हमेशा याद रखे बैंक कर्मचारी कभी भी आप से आपका PIN नंबर नहीं पूछते है इसलिए अपना PIN नंबर किसी भी हाल में किसी को भी न बताये 

ATM FAQ

  • एटीएम पिन क्या होता है ?
    (PIN)Personal Identification Number 4 अंको का नंबर होता है जिसके द्वारा आप एटीएम में अपने account की जानकारी एक्सेस कर सकते है और पैसा निकालना, PIN बदलना आदि काम कर सकते है.
  •  मै अपना नया ATM PIN कैसे generate(बना ) कर सकता हू?
    आप किसी भी एटीएम जाकर, SMS भेजकर या इन्टरनेट बैंकिंग के द्वारा ATM PIN बना या बदल सकते है
  • ATM से पैसे निकालने के लिए क्या चीजे साथ ले जानी चाहिए ?
    ATM card और PIN नंबर
  • एटीएम कार्ड खो जाये तो क्या करे ?
    आप अपने बैंक से संपर्क करके एटीएम ब्लाक करने के लिए कहे
  • मेरे पास SBI का एटीएम है क्या मै ICICI बैंक के एटीएम से पैसे निकल सकता हू?
    हा आप किसी एक बैंक का एटीएम कार्ड दूसरे बैंक के एटीएम मशीन में प्रयोग कर सकते है
  • Cardholder कौन होता है ?
    जिसके नाम से एटीएम कार्ड जारी किया जाता है.
  • Mini Statement क्या होता है?
    ये आपके account में किये गए पिछले कुछ लेन देन की लिस्ट होती है.
  • PIN कब बदला जा सकता है?
    PIN जरुरत के हिसाब से हमेशा बदलते रहना चाहिए इससे धोखाधड़ी का खतरा कम हो जाता है.
  • एटीएम से कैश निकालते समय एटीएम ने कैश नहीं दिया लेकिन पैसे कटने का sms आ गया तो क्या करे?
    इस केस आपको अपने बैंक के customer care या helpline से बात करनी होगी। customer care number आपके एटीएम कार्ड या एटीएम कवर पर लिखा रहता है.

निष्कर्ष:ATM क्या है

    दोस्तों मुझे पूरा विश्वास है आपको ये पोस्ट ATM क्या है हिंदी में (What is ATM in Hindi), ATM ka full form क्या है और इससे पैसे कैसे निकाल सकते है चूँकि ये पैसे से सम्बंधित बहुत जरुरी विषय है इसलिए थोड़ी सी सावधानी हमें बहुत बड़े वित्तीय नुकसान से भी बचा सकती है इसीलिये इस पोस्ट को सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों, परिवार के साथ जरुर शेयर करिए.

इस पोस्ट ATM क्या है से सम्बंधित कोई प्रश्न हो तो आप मुझे कमेंट करके बता सकते है. इस तरह की और जानकारी के लिए आप हमारे Tech, Google products और Internet केटेगरी को भी देख सकते है और हमारे फेसबुक, Quora, Pinterest और ट्विटर पेज को भी फॉलो कर सकते है.

Sunil Kumar Singh

नमस्कार दोस्तों मै सुनील कुमार सिंह, utsukHindi का technical author हूँ। मै मिर्ज़ापुर (U.P) के एक गाँव का रहने वाला हूँ। मै एक Engineering graduate हूँ। इसलिए मुझे technical और internet से सम्बंधित नयी विषयो को पढना अच्छा लगता है।

View all posts by Sunil Kumar Singh →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

₹15,000 के अन्दर Best 5G Mobile ₹13,999 का Redmi note 10T Dual 5G ₹ 25,000 तक के बेस्ट स्मार्टफोन ₹ 12,999 का Poco m3 pro 5G फोन स्मार्टफोन की बेहद आसान ट्रिक्स सबसे अच्छे फ्री ऑनलाइन स्टोरेज- 2021 व्हात्सप्प चैट एक्सपोर्ट या सेंड कैसे करे? विश्‍व पुस्‍तक दिवस 23 अप्रैल को क्यों मनाया जाता है? विंडोज कंप्यूटर शॉर्टकट Key लिस्ट ब्लैक बॉक्स का रंग नारंगी क्यों होता है? फोन की स्पीड ऐसे बढ़ाये आसानी से पेट्रोल प्राइस का सारा कच्चा चिट्ठा पावरफुल बैटरी वाला Vivo Y72 5G नेटफ्लिक्स के बारे में रोचक जानकारी दुनिया के सबसे ख़राब पासवर्ड लिस्ट 2020 दुनिया का सबसे शांति प्रिय देश टॉप 4 क्रिप्टो करेंसी जिन्होंने दिया सबसे ज्यादा रिटर्न टॉप 10 देश रहने और कमाने के लिए जीमेल में स्टोरेज बढ़ाने के 6 तरीके जीमेल के हैरान करने वाले 5 बेहतरीन फीचर!