Beta Version

« Back to Glossary Index

किसी भी सॉफ्टवेर को मार्केट में पब्लिक के बीच लांच करने से पहले “beta” अवस्था (Phase) से गुजरना पड़ता है. इस फेज में सॉफ्टवेर को हर तरह से टेस्ट किया जाता है. जैसे कोई bug, crash या error आदि तो नहीं है. पहले सॉफ्टवेर बीटा वर्जन केवल सॉफ्टवेर डेवलपर को ही दिया जाता था लेकिन जनरल पब्लिक भी इन्हे टेस्ट कर सकती है. बीटा वर्जन आप भी ट्राई कर सकते है.

बीटा वर्जन फ्री होते है. बीटा वर्जन में साधारण रूप से क्रैश या error आते रहते है. इसलिए आम पब्लिक ऐसे वर्जन से दूर ही रहते है. अगर किसी सॉफ्टवेर के वर्जन नंबर में b है तो मतलब ये हुआ कि वो बीटा वर्जन है. जैसे Version: 1.4 b9

बीटा वर्जन का फायदा ये होता है किसी भी सॉफ्टवेर की रियल कंडीशन में परफॉरमेंस कैसी है. क्योकि इन्हे वास्तविक दुनिया में टेस्ट किया जाता है ना कि किसी कंप्यूटर लैब में.

« Back to Glossary Index
₹5,999 वाला Nokia C01 plus ₹15,000 के अन्दर Best 5G Mobile ₹ 7,000 तक के बेस्ट स्मार्टफोन ₹ 25,000 तक के बेस्ट स्मार्टफोन ₹ 20,000 तक के बेस्ट कैमरा फोन ₹ 10,000 तक के सैमसंग के बेस्ट फोन ₹ 10,000 तक के बेस्ट स्मार्टफोन ₹ 10,000 तक के नोकिया के बेस्ट फोन हिंदी दिवस 14 सितम्बर को क्यों मनाते है? स्मार्टफोन की बेहद आसान ट्रिक्स व्हात्सप्प चैट एक्सपोर्ट या सेंड कैसे करे? विंडोज कंप्यूटर शॉर्टकट Key लिस्ट राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस 2021 मोस्ट पावरफुल प्रोसेसर वाला Realme GT बिट कॉइन को मान्यता देने वाला पहला देश El Salvador पेट्रोल प्राइस का सारा कच्चा चिट्ठा पावरफुल बैटरी वाला फोन Nokia G10 पावरफुल बैटरी वाला गेमिंग फोन – Poco F3 GT नेटफ्लिक्स के बारे में रोचक जानकारी नीरज चोपड़ा का ऐतहासिक गोल्ड मेडल-Tokyo Olympic 2020